• Home »
  • New Delhi »
  • अरविंद केजरीवाल को गिरफ्तार किया जाए-आदेश गुप्ता

अरविंद केजरीवाल को गिरफ्तार किया जाए-आदेश गुप्ता

नई दिल्ली, 25 जून। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष श्री आदेश गुप्ता ने कहा कि कोरोना संकट में ऑक्सीजन की सरकार निर्मित कमी से मारे जाने वाले लोगों की वास्तव में हत्या हुई है जिसके लिए केजरीवाल सरकार पूरी तरह जिम्मेदार है इसलिए केजरीवाल को इस्तीफा देना चाहिए। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के इस्तीफे की मांग करते हुए कहा कि ऑक्सीजन ऑडिट मुद्दे पर उच्चतम न्यायालय की रिपोर्ट के बाद केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन के खिलाफ हत्या और आपराधिक षडयंत्र के मामलों में मुकदमें दर्ज होने चाहिए। 
उच्चतम न्यायालय ने दिल्ली में ऑक्सीजन की भारी मांग के बाद एक ऑडिट समिति गठित की थी। इस समिति की अंतरिम रिपोर्ट में दिल्ली सरकार को जरुरत से 4 गुना ज्यादा ऑक्सीजन की मांग करने का दोषी ठहराते हुए कहा गया है कि इस तरह की मांग से देश के दूसरे राज्यों में भी ऑक्सीजन संकट खड़ा हो सकता था। समिति की रिपोर्ट के हवाले से प्रदेश भाजपा अध्यक्ष श्री आदेश गुप्ता, नेता प्रतिपक्ष श्री रामवीर सिंह बिधूड़ी और प्रदेश उपाध्यक्ष श्री अशोक गोयल देवराहा ने आज एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान भाजपा ने केजरीवाल सरकार की नाकामी, कुप्रबंध और विफलताओं को लेकर जो भी आरोप लगाए थे, वे सभी सिद्ध हो गए हैं। ऐसे में अगर कहा जाए कि दिल्ली में कोरोना संकट में ऑक्सीजन की सरकार निर्मित कमी से मारे जाने वाले लोगों की वास्तव में हत्या हुई है तो गलत नहीं होगा। संयुक्त प्रेसवार्ता में प्रदेश प्रवक्ता श्री तजिंदर पाल सिंह बग्गा उपस्थित थे।  

 आदेश गुप्ता ने कहा कि केजरीवाल सरकार ने कोरोना संकट में जिस तरह की आपराधिक लापरवाही भरी गलतियां की है, वे अक्षम हैं। हजारों लोगों की जान लेने वाली केजरीवाल सरकार इस्तीफा दें और अरविंद केजरीवाल को गिरफ्तार किया जाए। साथ ही केजरीवाल और उनके मंत्रियों पर आपराधिक मुकदमा चले। उन्होंने कहा कि दिल्ली में ऑक्सीजन वितरण प्रबंधन सुव्यस्थित तरह से नहीं था। जरुरत कम होने के बावजूद केंद्र सरकार ने दिल्ली को ऑक्सीजन ज्यादा दी, लेकिन प्रबंधन में कमी की वजह से कहीं 48 घंटों का ऑक्सीजन बचे होने की जानकारी मिली तो कहीं 48 मिनट की। जिससे घबराहट के चलते अफरा-तफरी मची और लोगों की जाने गई।    उन्होंने कहा कि केजरीवाल सरकार कोरोना संकट में अपनी हर नाकामी को ऑक्सीजन के मुद्दे के तले छिपाने की साजिश करती रही, लेकिन न्यायालय की रिपोर्ट से स्पष्ट है कि अपनी गलतियों को छिपाने के लिए ही सरकार जरुरत से 4 गुना ज्यादा ऑक्सीजन की मांग करती रही। जब जरुरत केवल 209 मीट्रिक टन की थी तो 1140 मीट्रिक टन की मांग की गई और सारा दोष केंद्र सरकार पर डालने की साजिश रची गई।
नेता प्रतिपक्ष श्री रामवीर सिंह बिधूड़ी ने कड़े शब्दों में केजरीवाल की आलोचना करते हुए उन्हें सीधे-सीधे अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों का दोषी ठहराया है। उन्होंने उपराज्यपाल से मांग की कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन पर हत्या का मुकदमा चलाया जाए। 
उन्होंने कहा कि भाजपा ने दिल्ली सरकार पर कोरोना संकट के समय विफलता के जो भी आरोप लगाए वे सभी अब सिद्ध हो गए हैं। दिल्ली के बड़े अस्पतालों के प्रबंधको ने ऑक्सीजन न मिलने के लिए दिल्ली सरकार को दोषी ठहराया था जिस पर अब न्यायालय की समिति की मोहर लग गई है। 

प्रदेश उपाध्यक्ष श्री अशोक गोयल देवराहा ने कहा कि दिल्ली की केजरीवाल सरकार के झूठ की अब पोल खुल चुकी है। विज्ञापनों और आरोपों के दम पर अपनी नाकामियों को केंद्र के सिर मढ़ने में माहिर केजरीवाल सरकार अब बेनकाब हो चुकी है।