• Home »
  • New Delhi »
  • भाजपा ने निगम पर आरोप साबित होने पर मुख्यमंत्री केजरीवाल दी चुनौती

भाजपा ने निगम पर आरोप साबित होने पर मुख्यमंत्री केजरीवाल दी चुनौती

मुख्यमंत्री आवास के बाहर निगम के तीनों मेयर और नेताओं का निगम का 13000 करोड़ रुपए का बकाया फंड जारी करने की मांग को लेकर धरना आज दसवें दिन भी जारी रहा। दिल्ली भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता, सांसद मीनाक्षी लेखी, सांसद हंसराज हंस और सांसद गौतम गंभीर ने धरना स्थल से पत्रकार सम्मेलन किया और केजरीवाल सरकार की द्वेषपूर्ण कार्यप्रणाली को उजागर किया। इस अवसर पर प्रदेश उपाध्यक्ष राजीव बब्बर, प्रदेश कोषाध्यक्ष विष्णु मित्तल और प्रदेश मीडिया प्रमुख नवीन कुमार उपस्थित थे। 


प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने कहा कि आज दिल्ली के आम आदमी पार्टी के अंदर हताशा और निराशा है और इसी हताशा में उत्तरी और दक्षिणी दिल्ली नगर निगम पर 2500 करोड़ रुपए के घोटाले का बेबुनियाद और हास्यपद आरोप लगा रही है। हम मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को चुनौती दे रहे हैं कि सीबीआई या किसी भी स्वतंत्र एजेंसी से नगर निगमों पर लगाए गए आरोपों की जांच कराएं और अगर आरोप झूठे निकले तो मुख्यमंत्री अपना इस्तीफा देने को तैयार रहें। निगम नेता इस कड़ाके की ठंड में खुले आसमान के नीचे निगम कर्मियों के हक के मांग के लिए मुख्यमंत्री आवास के बाहर धरने पर बैठे हैं। भाजपा के लगातार चलाये अभियान ने दिल्ली की जनता के बीच यह स्थापित कर दिया है कि गत 6 वर्षों में केजरीवाल सरकार के संरक्षण में दिल्ली जल बोर्ड के राजनीतिक नेतृत्व एवं अधिकारियों ने मिलकर न सिर्फ जल बोर्ड की पूंजी बल्कि उसको मिले 50,000 करोड़ रुपए के ऋण के पैसे का भी घोटाला कर दिया है। दिल्ली भाजपा अध्यक्ष ने कहा है कि दिल्ली की जनता भलिभांति जानती है कि दो संविधानिक निकायों उत्तरी एवं दक्षिणी नगर निगम के बीच किराये के बकाया के प्रस्ताव जिसमें एक भी पैसे का लेन-देन नहीं होना है उसमें कोई घोटाला हो ही नहीं सकता।