• Home »
  • New Delhi »
  • पत्रकार की गिरफ्तारी पर भड़के राहुल गांधी, कहा- ऐसे तो खाली हो जाएंगे मीडिया हाऊस

पत्रकार की गिरफ्तारी पर भड़के राहुल गांधी, कहा- ऐसे तो खाली हो जाएंगे मीडिया हाऊस

नई दिल्लीः पिछले दिनों उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के बारे में आपत्तिजनक पोस्ट करके बुरे फंसे पत्रकार प्रशांत कनौजिया को सुप्रीम कोर्ट ने जल्द रिहा करने का आदेश दिया। इसी के साथ ही देश में इस मामले ने तूल पकड़ ली और विपक्ष ने भी योगी सरकार को इस बारे में घेरने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

Rahul Gandhi

@RahulGandhi

If every journalist who files a false report or peddles fake, vicious RSS/BJP sponsored propaganda about me is put in jail, most newspapers/ news channels would face a severe staff shortage.

The UP CM is behaving foolishly & needs to release the arrested journalists.

Congress

@INCIndia

Detaining a journalist for sharing a video that presents a State official in poor light is illegal & arbitrary and violates the principles our nation is founded on. https://indianexpress.com/article/india/prashant-kanojia-journalists-arrest-up-yogi-adityanath-editors-guild-of-india-congress-5772078/ 

9,545 people are talking about this

कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट करके बीेजेपी पर निशाना साधा और पत्रकार प्रशांत किशोर को जल्द से जल्द रिहा करने की बात कही। राहुल गांधी ने अपने बारे में फलाए जाने वाले झूठ का हवाला देते हुए ट्वीट किया,”अगर मेरे खिलाफ आरएसएस-बीजेपी प्रायोजित विषैले दुष्प्रचार चलाने और गलत रिपोर्ट देने के लिए पत्रकारों को जेल में डाला जाए तो ज्यादातर अखबारों/समाचार चैनलों को बड़े पैमाने पर कर्मचारियों की कमी सामना करना पड़ जाएगा” राहुल गांधी ने कहा,”उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री मूर्खतापूर्ण ढंग से व्यवहार कर रहे हैं। गिरफ्तार किए गए पत्रकारों को रिहा करने की जरूरत है।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बारे में कथित तौर पर आपत्तिजनक पोस्ट और खबरें प्रसारित करने के लिए प्रशांत कनौजिया समेत कुछ पत्रकारों को गिरफ्तार किया गया है। विभिन्न पत्रकार समूहों ने इन गिरफ्तारियों की निंदा की है।

प्रशांत कनौजिया ने गिरफ्तारी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की। जिसपर आज सुनवाई हुई और इस दौरान शीर्ष अदालत ने उत्तर प्रदेश की योगी सरकार को फटकार लगाई। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि पत्रकार को तुरंत रिहा किया जाना चाहिए।