• Home »
  • Uncategorized »
  • कर्नाटक में कुर्सी के लिए सियासी घमासान तेज, बीजेपी पर लगा कांग्रेसी विधायकों से संपर्क साधने का आरोप

कर्नाटक में कुर्सी के लिए सियासी घमासान तेज, बीजेपी पर लगा कांग्रेसी विधायकों से संपर्क साधने का आरोप

pics

बेंगलुरुः कर्नाटक विधानसभा चुनावों के नतीजे आने के बाद राज्य में सरकार बनाने को लेकर सियासी घमासान जारी है। एक ओर जहां नतीजों में सबसे ज्यादा सीटें लेने वाली बीजेपी बहूमत के आंकड़े को नहीं छू पाई, तो वहीं दूसरी ओर कांग्रेस ने जेडीएस का हाथ थाम लिया है। कांग्रेस और जेडीएस की मिलकर 117 सीटें हो जाती हैं, तो वहीं बीजेपी को 104 सीटें मिली हैं। दोनो पक्षों की ओर से अब सरकार बनाने के दावे किए जा रहे हैं। अब सबकी निगाहें गवर्नर वजुभाई के फैसले पर टिकी हैं कि वह किसे सरकार बनाने के लिए पहले आमंत्रित करते हैं।

इस बीच, कांग्रेस ने बीजेपी पर उनके विधायकों से संपर्क साधने का आरोप लगाया है।  इसके साथ ही कांग्रेस ने किसी भी तरह की फूट से साफ इनकार किया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने बुधवार को कहा, ‘सबसे बड़ी पार्टी के पास पर्याप्त संख्या नहीं है। BJP के पास 104 विधायक हैं और हमारे (कांग्रेस और JDS) के पास 117 हैं। गवर्नर पक्ष नहीं ले सकते हैं। क्या ऐसा व्यक्ति, जो संविधान को बचाने के लिए हैं वह खुद उसपर चोट करेगा। गवर्नर को अपने सभी पुराने संबंधों को अलग रखना चाहिए, जो उनके बीजेपी या आरएसएस के साथ रहे हैं।’ आजाद ने साफ कहा कि ‘जेडीएस को अपने विधायकों पर पूरा भरोसा है। कोई भी नहीं जाएगा, बीजेपी जो भी चाहती है उसे कोशिश करने दीजिए।’ खबरें ये भी हैं कि कुमारस्वामी को सीएम पद दिए जाने से कांग्रेस के कुछ लिंगायत विधायक नाराज हैं। इस पर सिद्धारमैया ने कहा, ‘कांग्रेस के सभी विधायक एकसाथ है। कोई भी मिसिंग नहीं है। हम सरकार बनाने को लेकर पूरी तरह से आश्वस्त हैं।’

इस बीच बड़ा सवाल यह है कि 104 सीटें जीतने वाली बीजेपी 112 के जादुई आंकड़े को कैसे हासिल करेगी? इस पर पार्टी नेता बसवराज बोमई ने कहा, ‘राजनीतिक तस्वीर अगले 2-3 दिनों में साफ होगी। यह राजनीतिक पार्टियों के फैसले पर निर्भर करेगी।’

 

143 total views, 2 views today