• Home »
  • New Delhi »
  • ‘ममता-मायावती ने घोंटा लोकतंत्र का गला, किसी भी पद को संभलाने के योग्य नहीं दोनों’

‘ममता-मायावती ने घोंटा लोकतंत्र का गला, किसी भी पद को संभलाने के योग्य नहीं दोनों’

नई दिल्लीः केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने सोमवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर लोकतंत्र का गला घोंटने का आरोप लगाया और कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की नेता मायावती द्वारा निजी हमले करना दिखाता है कि वह किसी भी सार्वजनिक पद को संभालने के योग्य नहीं है। जेटली ने कहा कि पश्चिम बंगाल में लोकतंत्र की स्थिति बेहद खराब हो चुकी है।

मंत्री ने ट्वीट कर कहा, ‘‘ममता दीदी-बंगाल में लोकतंत्र की स्थिति बेहद खराब हो चुकी है। विपक्षी कार्यकर्ताओं की हत्या की जा रही है, प्रत्याशियों पर हमले किए जा रहे हैं। मतदाता केंद्रों पर कब्जा किया जा रहा है और विपक्षी नेताओं को रैली करने की इजाजत नहीं दी जा रही।’’

एक सामाचार एजेंसी को दिए साक्षात्कार में, मायावती ने प्रधानमंत्री पर निजी हमले किए और कहा कि उनसे दूसरों की बहनों और पत्नियों का सम्मान करने की उम्मीद नहीं की जा सकती, जब उन्होंने राजनीतिक फायदा उठाने के लिए अपनी पत्नी को ही छोड़ दिया।

जेटली ने ट्वीट कर कहा, ‘‘बहन मायावती-वह प्रधानमंत्री बनने के लिए प्रतिबद्ध हैं। उनकी गवर्नेंस, नैतिकता, विचारधारा अब तक के सबसे निचले स्तर पर पहुंच चुकी है। उनका प्रधानमंत्री पर निजी हमला दिखाता है कि वह सार्वजनिक जीवन के लिए अयोग्य है।’’

भाजपा ने भी बनर्जी पर अमित शाह के हेलीकॉप्टर को बंगाल में नहीं उतरने देने ओर जाधवपुर में रैली नहीं करने देने को लेकर निशाना साधा। भाजपा मुख्यालय में मीडिया को संबोधित करते हुए, केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि बनर्जी लोकतंत्र की हत्या कर रही है और लोग उन्हें बेलेट के जरिए माकूल जवाब देंगे।

जावड़ेकर ने कहा, ‘‘अमित शाह को जाधवपुर में रैली करनी थी। इस संबंध में इजाजत चार-पांच दिन पहले ले ली गई थी। प्रशासन ने बिना कोई कारण बताए रविवार रात 8.30 बजे इजाजत नामंजूर कर दी, उन्होंने भाजपा अध्यक्ष के हेलीकॉप्टर को भी यहां उतरने से इजाजत देने से मना कर दिया।’’

उन्होंने चुनाव आयोग से इस पर संज्ञान लेने का आग्रह किया। जावड़ेकर ने कहा कि बनर्जी इतनी व्याकुल हो गई हैं कि वह केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) को भी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सदस्यों के तौर पर देखती हैं।