राष्ट्रपति चुनावः सोनिया के घर पहुंचे बीजेपी के वरिष्ठ नेता, ये होगी खास रणनीति

pics

17 जुलाई को राष्ट्रपति चुनाव होने जा रहे हैं। एेसे में राजनीति में सरगर्मियां तेज हो गई हैं। इसी के मद्देनजर भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता वैंकेया नायडू व गृहमंत्री राजनाथ सिंह इसी सिलसिले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी सो मुलाकात करने उनके आवास स्थान पर पहुंच चुके हैं। हालांकि यह मुलाकात 30 मिनट बी नहीं चल पाई। अगले महीने होने वाले राष्ट्रपति चुनावों के लिए केंद्र सरकार चाहती है कि चुनाव आम सहमति से हों। लइसिलिए बीजेपी नेता सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी भी राजनाथ सिंह और वैंकेया नायडू से शाम 3 बजे मुलाकात करेंगे।

कांग्रेस नेताओं से मिलीं सोनिया

इसके मद्देनजर सोनिया गांधी ने गुरुवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात की थी. सोनिया से मिलने वाले नेताओं में मल्लिकार्जुन खड़गे, ग़ुलाम नबी आजाद, अहमद पटेल शामिल थे।

क्या जवाब देंगी सोनिया?

सूत्रों के मुताबिक, बैठक में तय हुआ कि जब एनडीए के नेता आएंगे तो सोनिया गांधी क्या प्रतिक्रिया देंगी। कांग्रेस को उम्मीद है कि दो तरह की रणनीति के साथ एनडीए के नेता आ सकते हैं। पहला ये कि, वो कुछ नाम सुझा सकते हैं और सोनिया की राय मांग सकते हैं और दूसरा, वो कह सकते हैं कि जनमत हमारे साथ है, इसलिए हम जो भी उम्मीदवार तय करें विपक्ष को उसका समर्थन करना चाहिए। इस मुलाकात पर कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने कहा कि एनडीए के नेता क्या बात करते हैं कि इसके आधार पर ही सोनिया जवाब देंगी। मुलाकात से पहले क्या कहा जा सकता है?

अन्य पार्टियों को भी साथ लाने की कोशिश

इसके पहले बीजेपी की टीम ने बीएसपी सांसद सतीश चंद्र मिश्रा, एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल, और सीताराम येचुरी से फोन पर बात किया है. राष्ट्रपति उम्मीदवार पर विपक्षी सब कमेटी की बुधवार को हुई बैठक में किसी नाम पर फैसला नहीं हो पाया था।

सूत्रों के मुताबिक, सोनिया ने तय किया है कि वह कोई सीधा जवाब एनडीए के नेताओं को नहीं देंगी, बल्कि वे कहेंगी कि विपक्ष की 17 पार्टियों से बात करके ही कोई फैसला करेंगी। सोनिया गांधी का मानना है कि कांग्रेस पहले से इस मुद्दे पर 17 विपक्षी पार्टियों से चर्चा कर रहीं है, इसलिए सबसे बात करके ही वो फैसला करेंगी और फैसला विपक्ष का सामूहिक होगा।

20 या 21 जून को फिर हो सकती है विपक्ष की बैठक

सूत्रों का ये भी मानना है कि एनडीए के नेताओं से मुलाकात करने के बाद सोनिया 20 या 21 जून को एक बार 17 विपक्षी पार्टियों की बैठक बुलाएंगी, जिसमें सोनिया समेत सभी नेता अपनी अपनी राय रखेंगे, क्योंकि एनडीए के नेता सोनिया के अलावा और भी विपक्षी नेताओं से इस बीच मुलाकात कर लेंगे।

दरअसल, कांग्रेस और तमाम विपक्षी दलों को लगता है कि सरकार विपक्ष से बात करने की महज औपचारिकता निभाती दिख रही है।वह अपनी विचारधारा का ही उम्मीदवार थोपना चाहती है, जिस पर शायद ही विपक्ष की सहमति मिले। इसलिए बिना नाम जाने तो एनडीए के उम्मीदवार का विपक्ष समर्थन करने से रहा। इसलिए एनडीए के उम्मीदवार के सामने आते ही विपक्ष भी अपना उम्मीदवार तय कर देगा।

185 total views, 2 views today